फरीदकोट:-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फिरोजपुर रैली में शामिल होने के लिए बुधवार को बसों का काफिला भाजपा के वक्ता कुलदीप सिंह धालीवाल और जिला महामंत्री राजविन्दर सिंह भलूरिया के नेतृत्व में रवाना हुआ था। जैसे ही यह रिलायंस पेट्रोल पंप मोगा रोड पर पहुंचा तो वहां पहले से ही मौजूद भारतीय किसान यूनियन एकता (फतह) के नेताओं ने उनको आगे बढ़ने से रोक दिया, जिस कारण भाजपा वर्करों और किसान यूनियन के नेताओं में टकराव वाली स्थिति बन गई।बसों को आगे न बढ़ने देने पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने रोष जाहिर करते सड़क पर बसें रोक कर जाम लगा दिया और प्रशासन से उनका काफिला आगे चलाने की मांग करने लगे। मौके पर पुलिस के साथ पहुंचे डीएसपी रमनदीप सिंह भुल्लर ने दोनों धड़ों के नेताओं के साथ बात की और भाजपा नेताओं को यातायात चालू करने के लिए कहा, परन्तु भाजपा नेता मांग कर रहे थे कि पहला हमारे काफिले को जाने दिया जाए उससे बाद हम ट्रैफिक को बहाल करेंगे। डीएसपी रमनदीप सिंह भुल्लर ने अपनी सूझबूझ के साथ दोनों धड़ो के साथ बात की और भाजपा नेता अपनी बसों को वापस किसी ओर रास्ते द्वारा रैली मे ले जाने के लिए तैयार हो गए। किसान नेता अमनदीप नानकसर ने कहा कि दिल्ली धरने दौरान हमारे 700 किसान मारे गए हैं और कई अहम मुद्दों पर बातचीत करनी है, इस लिए आज हम मोदी की रैली मे जाने वाली बसों का विरोध कर रहे हैं। भाजपा के वक्ता कुलदीप सिंह धालीवाल ने कहा कि हर एक व्यक्ति को संवैंधानिक हक है कि वह किसी भी पार्टी की सपोर्ट करे या किसी भी रैली मे जाए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तरफ से किसानों की सारी मांगों को माना जा चुका हैं फिर भी किसानों द्वारा पार्टी वर्कर का विरोध करना जा उनकी बसों को रोकना गैर संवैंधानिक है। उन्होंने कहा कि यह विरोध करने वाले किसान नहीं हैं यह किसानों के रूप में दूसरी राजनीतिक पार्टियों के नेता हैं।