-शिव सेना समाज के हर वर्ग के साथ हर दुख सुख में खड़ी पर जेलों में बंद नेताओं की रिहाई के लिए समाज जिम्मेवारी के काम ले-दिनेश बांसल
फगवाड़ा (डॉ रमन ) पौने तीन साल से जेल में बंद हिंदू नेताओं की रिहाई के लिए समाज के उदासीन व्यवहार पर पर शिव सेना (बाल ठाकरे) ने गहरा आक्रोश जताते कहा कि समाज का यह उदासीन व्यवहार शर्मनाक है तथा संर्घषशील योद्दाओं के हौंसले को ढहढेरी करने वाला है। इस संबंधी आज शिव सेना (बाल ठाकरे) की एक बैठक सेना कार्यालय में फगवाड़ा अध्यक्ष दिनेश बांसल की अध्यक्षता में हुई जिसमें साफ कहा कि समाज के नेता जो पहले आगे बढ़ चढ़ कर इस संर्घष में मोहरी बने थे,चाहे वो किसी भी पार्टी के थे,आज लगता है अपना उल्लु सिद्द करने के बाद चुपचाप बैठ गए है किसी को जेल में बंद हिंदू नेताओं व उनके परिवारों की कोई चिंता नही है। बांसल ने कहा कि हिंदू समाज के इस नकारात्मक व्यवहार का ही नजायज फायदा पुलिस प्रशासन भी उठा रहा है तथा बिना किसी ठोस सबूत के हर तारीख पर कोई न कोई बहाना गढ़ कर नेताओं की रिहाई में रोड़े अटका रहा है। सेना ने कहा कि अगर जनरल समाज ने शीघ्र कोई मीटिंग कर एक्शन कार्यक्रम नही उलीका तो शिव सेना अपने स्तर पर कोई कार्यक्रम की रुपरेखा तय करेगी। उन्होंने कहा कि शिव सेना ने सदैव हर वर्ग का चाहे वो व्यापारी वर्ग,किसान वर्ग हो,छात्र वर्ग हो का हर संर्घष में साथ दिया है पर बंद हिंदू नेताओ के मामले में शिव सेना के हाथ हर वर्ग से निराशा ही हाथ लगी है। उन्होंने एक बार फिर कहा कि जनरल समाज के नेता होश में आए तथा अपना कत्र्वय पहचाने। हिंदू नेताओं की रिहाई के लिए कोई कार्यक्रम बनाए अन्यथा हताशा में आया समाज इन समाज के नेताओं को नकार देगा। बैठक में सुनील जलोटा,वलायती राम सहूका,बलदीप भुल्लाराई,अतुल शर्मा,कुलदीप दानी,लक्ष्मण सुमन,बब्बी गोस्वामी,नरिंदर निंदी, अमन काला आदि मौजूद थे।