नूरमहल 13 फरवरी (पारस)

नूरमहल में मिष्ठान बेचने वाले दुकानदार आज कल मिष्ठान के साथ डिब्बा तोलकर लोगों को भारी चूना लगा रहे हैं और प्रशासन कुम्भकर्णी नींद सोया पड़ा है। लोगों का कहना है कि यदि कभी सेहत विभाग जां फिर किसी और टीम की ओर से छापामारी की जानी होती है तो सबंधित दुकानदारों को फोन कर पहले ही सूचित कर दिया जाता है और अधिकारी आते हैं उगाही कर चले जाते हैं। आज उस समय हद हो गई जब एक पत्रकार स्वीट शॉप पर मिष्ठान लेने गया तो पत्रकार के कहने पर दुकानदार ने बिना डिब्बे के मिष्ठान तो एक किलो दे दिया और पत्रकार के अलग से डिब्बा मांगने पर 100 ग्राम के खाली डिब्बे का रेट 40 रुपये लगाया। जब पत्रकार ने कहा कि यह सरासर गलत है और गत्ते के खाली डिब्बे का रेट 40 रुपये ज्यादा लगाने का विरोध किया तो दुकानदार ने कहा कि रेट यही लगना है बाकी आपकी मर्जी है। समाज को सेध देने वाले और समाज की राखी करने वाले पत्रकारों के साथ यह दुकानदार ऐसा व्यवहार करते हैं तो आम लोगों का ता रब्ब ही राखा है। उधर ऐसी दुकानों पर एक्सपायरी डेट की तथा खराब हो चुके मिष्ठान बेचे जाते हैं। ढाबे वालों का कहना है कि यूनियन वाले हमसे 200 रुपये महीना लेते हैं और कहते हैं कि आपको कोई तंग परेशान नहीं करेगा और आप हमें 200 रुपये महीना देते रहो। अब यह देखना है कि जो यह रुपये इकठे किये जाते हैं किस अधिकारी तक पहुंचते हैं। लोगों का कहना है कि यदि अधिकारी ही पैसों की खातिर ऐसा करते रहेंगे तो लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ होता रहेगा और लोग मरते रहेंगे