वैश्विक महामारी ने सभी की परेशानियां बढ़ा दी हैं। इसी के चलते विश्व के अधिकतर देशों में लॉकडाउन लागू है। ऐसे परेशानी भरे माहौल में अमेरिका ने पूरे एक अकादमिक सेशन के लिए स्कूल-कॉलेज बंद करने का आदेश दिया है। यह फैसला वाशिंगटन डीसी समेत देश के कम से कम 37 राज्यों में लागू किया गया है। संयुक्त राज्य अमेरिका के अधिकांश गवर्नर ने यह आदेश दिया है। उनका कहना है कि इस कदम से वैश्विक महामारी के प्रसार को रोका जा सकेगा। वहीं कुछ राज्यों का कहना है कि वे सोशल डिस्टेसिंग के नियमों का पालन करते हुए स्कूल खोल सकते हैं। फ्लोरिडा, टैक्सास और वाशिंगटन के साथ-साथ वाशिंगटन डीसी ने यह आदेश जारी किए हैं कि विद्यार्थी घर पर रहकर ही पढ़ाई करें। इसके अलावा एरिजोना, हावर्ड और बोस्टन यूनिवर्सिटी भी बंद रहेगी। विद्यार्थियों ने इस फैसले को सराहा है। बोस्टन यूनिवर्सिटी ने तो यह भी कहा कि वर्ष 2020 में विद्यार्थियों को स्कूल बुलाना उनकी सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। कैलिफोर्निया, इडाहो और साउथ डकोटा और टैनेसी ने भी कहा है कि विद्यार्थियों को दूरस्थ शिक्षा मॉडल के मा्ध्यम से पढ़ाया जाएगा। अब सवाल यह है कि क्या भारत में भी ऐसे हालात बन सकते हैं। दरअसल भारत में हालात लगातार खराब हो रहे हैं। बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए भारत सरकार भी शायद बड़े फैसले ले सकती है, मगर उससे पहले सरकार को एक रूपरेखा तैयार कर लेनी होगी। ऐसा होने पर ही बच्चों के अकादमिक सत्र को बचाया जा सकेगा और किसी को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा।