फगवाड़ा (डॉ रमन ) शिव सेना पंजाब के प्रदेश प्रवक्ता विपन शर्मा ने आज यहां जारी एक प्रैस ब्यान में श्री अमरनाथ श्राईन बार्ड की कारगुजारी पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए कहा कि श्राईन बोर्ड द्वारा भगवान भोले नाथ के भक्तों तथा लंगर लगाने वाली संस्थाओं से बेतुका मजाक किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अमृतसर, शाहकोट तथा हरियाणा के कैथल से संबंधित तीन संस्थाओं को श्राईन बोर्ड की ओर से लंगर लगाने की मंजूरी के साथ आगामी 20 जून तक बालटाल पहुंचने का निर्देश जारी किया गया है जबकि केन्द्र सरकार ने अभी तक यह भी स्पष्ट नहीं किया कि इस वर्ष भी श्री अमरनाथ यात्रा होगी अथवा नहीं। उन्होंने कहा कि जब तक यात्रा की तारीख ही घोषित नहीं हुई तो लंगर संस्थाएं लाखों रुपए की रसद के साथ हजारों रुपए खर्च करके बालटाल भला क्यों पहुंचे? पिछले साल भी इसी तरह कई भंडारा संस्थाओं को पहले बुला लिया गया और बाद में कोविड-19 कोरोना आपदा की बात कह कर यात्रा रद्द कर दी गई थी। उन्होंने कहा कि हिन्दू आस्थाओं के साथ इस तरह का खिलवाड़ बिल्कुल सहन नहीं किया जाएगा। विपन शर्मा के साथ मौजूद शिव सेना पंजाब के फगवाड़ा शहरी प्रधान अंकुर बेदी ने भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से पुरजोर मांग कर कहा कि शिव भक्तों की आस्था का सम्मान करते हुए श्री अमरनाथ यात्रा को बेशक संक्षिप्त रूप में ही सही लेकिन मंजूरी अवश्य दी जाए ताकि देश-विदेश के करोड़ों श्रद्धालु अपने ईष्ट भगवान शिव के हिमलिंग के दर्शन कर सकें। यात्रा की रूपरेखा तैयार करने तथा तारीख के ऐलान करने के पश्चात ही लंगर संस्थाओं को बालटाल अथवा पहलगाम आदि में बुलाया जाए।