(गुरमीत सिंह टिंकू, अशोक लाल ब्यूरो फगवाड़ा)

फगवाड़ा, : टिकट का ऐलान होने के बाद फगवाड़ा से बीजेपी के उम्मीदवार राजेश बाघा के लिए मुसीबत शुरू हो गई है। ये कहना गलत नहीं होगा कि फगवाड़ा में अकाली-दल और बीजेपी में दोफाड़ हो गया है, क्योंकि अकाली पार्षद बलजिंदर सिंह ठेकेदार ने आज बतौर आजाद उम्मीदवार नामांकन दाखिल किया है। रिटर्निंग अफसर लतीश अहमद ने उनका नामांकन स्वीकार किया है।

बातचीत दौरान वार्ड नं 36 से अकाली पार्षद बलजिंदर सिंह ठेकेदार ने कहा कि फगवाड़ा में शुरू से ही दलित भाईचारे को नजरअंदाज किया गया है। उनकी लड़ाई अकाली या बीजेपी पार्टी से नहीं है, बल्कि लोकल लीडरशिप से है। हर बार पैराशूट के जरिए उम्मीदवार फगवाड़ा के लोगों को थोप दिया जाता है, जो अब स्वीकार नहीं किया जाएगा।

लोगों के कहने पर उन्होंने नामांकन दाखिल किया है और वह अपने स्टैंड पर कायम हैं। बता दें कि सोमप्रकाश और विजय सांपला की लड़ाई के कारण बाघा को पार्टी ने टिकट दी थी, मगर अब बाघा पर ही बाहरी उम्मीदवार का टैग लग रहा है। ऐसे में राजेश बाघा के लिए ये रास्ता काफी कठिन लग रहा है।