फगवाड़ा ( डॉ रमन )जनता न्यायिक महासभा ने संस्थापक चेयरमैन एडवोकेट रोहित शर्मा ने कोरोना महामारी में जरुरतमंदो की सहायता में लगी समाजिक संस्थाओं का अभार जताते हुए साथ ही इस अपात स्थिति में काम कर रहे सिविल प्रशासन, सेहत कर्मी,सफाई कर्मी तथा पुलिस कर्मीयों का भी धन्यावाद किया है। उन्होंने कहा कि हम सरकारी आदेशों तथा निर्देशों की पालना कर ही इस महामारी से छुटकारा पाने में समर्थ हो सकते है जिनमें सोशल डिस्टैंसिंग,हाथ धोने तथा मुंह पर मास्क पाना प्रमुख तौर पर शामिल है। उन्होंने कहा कि तमाम बातों के बाबजूद भी देखने में आया है कि जरुरतमंद की सहायता के समय प्रशासनिक अव्यस्था के चलते कई बार तो सहायता वितरण प्रणाली में एक सारता नही है जिसके चलते कई बार तो कुछ को तो एक से अधिक बार मिल रही है तथा कही स्थानों पर लोगो को एक बार भी सहायता नही मिल पर रही। रोहित शर्मा ने कहा कि समाजिक सहायता की इस चेन को संगठित तथा अनुशासित करने की अवश्यकता है। प्रशासन इस संबंधी एक क्षेत्रबंदी करके समाजिक संस्थाओं को निर्देशित कर अलग अलग ठिकानों पर सहायता वितरण का कार्यक्रम दे। उन्होंने कहा कि शहर में ठीक ढंग से कफ्र्यू की पालना करवा पाने में प्रशासन असमर्थ नजर आता है। लोगो बाजारों तथा मोहल्लों में बिना किसी कारण बैठे रहते है तथा निधार्रित समय के दुकाने खुली रहती है। जो सोशल डिस्टैंसिंग के नियम का जनाजा निकाल रहे है। महासभा ने यह भी मांग की कि सरकार की तरफ से घोषित सहायता अभी तक लोगो तक नही पहुंची है जिसको लेकर भी लोग परेशान है। सरकार द्वारा घोषित राशन की किट्टों का भी अभी कोई टिकाना नही है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा घोषित किए राहतों को शीघ्र पूरा करे तथा सेहत कर्मीयों को अवश्यक साजों समान जो इस महांमारी से लडऩे के लिए जरुरी है, भी पहल के अधार पर प्रदान करे तांकि इस कोरोना का जंग में उनको कोई दिक्कत न आए। उन्होंने कहा कि बाकी जिलो के मुकाबलो कपूरथला डी एम दीप्ती उप्पल जी की कारगुजारी प्रशंसनीय है जिसके चलते कपूरथला में सिर्फ एक केस है तथा सभी प्रबंधों को अच्छे से मोनिटर किया जाए तो इससे लड़ाई में कामयाबी मिल सकती है।