फगवाड़ा (डॉ रमन ) यू.पी. पुलिस के आठ जवानों की लाशें बिछा कर फरारी के सप्ताह भर बाद गुरुवार को मध्यप्रदेश के उज्जैन में कानून के हत्थे चढ़े गैंगेस्टर विकास दूबे की आज प्रात: हुई मौत को लेकर मीडिया व राजनीतिक गलियारों में जारी अटकलों और चर्चाओं के बीच शिव सेना पंजाब के वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश पलटा ने कहा कि विकास दूबे का यदि पुलिस ने एनकाऊंटर भी किया है तो वह स्वागत योग्य है। इससे अपराधियों के मन में पुलिस का डर पैदा होगा जो जरूरी भी है। उन्होंने कहा कि विकास दूबे जैसे गुंडों को नेता लोग ही पैदा करते हैं और अब उसकी मौत पर राजनीति नहीं करनी चाहिए। यदि वो जिंदा रहता तो शायद कानून की कमजोरियों का लाभ उठा कर उसी तरह सजा से बच जाता जैसे कि पुलिस थाने में उत्तर प्रदेश के मंत्री की सरेआम हत्या के बाद बाईज्जत बरी हो गया था। यदि ऐसा होता तो यह उन तमाम लोगों के साथ बड़ा अन्याय होता जिन्होंने गैंगेस्टर विकास दूबे के जुल्मों का संताप भोगा है। उन आठ पुलिस कर्मचारियों व अधिकारियों के परिवारों के साथ भी यह अन्याय होता। कम से कम विकास दूबे की मौत से शहीद पुलिस जवानों की आत्मा को शांति मिली होगी ओर परिवारों को भी कुछ संतोष हुआ अवश्य हुआ होगा। राजेश पलटा के साथ मौजूद रहे वरिष्ठ उपाध्यक्ष डा. रवि दत्त, पंजाब प्रवक्ता विपन शर्मा, व्यापार सैल के प्रधान अशोक आहूजा, शहरी प्रधान अंकुर बेदी आदि ने भी कहा कि इस तरह के खतरनाक अपराधियों की सजा एनकाऊंटर ही होनी चाहिए। हमें नहीं भूलना चाहिए कि पंजाब की धरती से आतंकवाद का खात्मा कभी संभव न होता अगर तब आतंकियों में एनकाऊंटर का भय घर न करता।