मुख्यमंत्री कोरोना से पंजाब को वचाने में दिन रात लगे इंस्पेकटर उनके प्रयासों पर पानी फेर रहे: शौरी

 गढ़शंकर(होशियारपुर):  (फूला राम बीरमपुर)  गढ़शंकर शहर में स्थानीय टैलीफोन एकसचेंज के निकट आंगनवाड़ी केंद्र में गेंहू वांटने के नाम सोशल डिस्टेंस की जमकर धज्जियां उड़ाई गई और लोगो नौ वजे बुला कर संबंधित अधिकारी ढाई घंटे तो ज्यादा देरी से पुहंचे। लिहाजा लोगो को परेशानी का साहमना करना पड़ा तो कोरोना वायरस से वचाने के लिए यहां पूरी सरकार और प्रशासन ने दिन रात जुटे है तो फूड सप्लाई विभाग गेहंू वितरण में लोगो को तीन तीन घंटे इकत्र कर बैठा कर लोगो को संकट में डाल रहा है तो सरकार व प्रशासन दुारा किए जा रहे प्रत्यनों को भी तहस नहस करने में जुटे है।

                                        गढ़शंकर शहर में टैलीफोन एकसजेंच के निकट आगनवाड़ी केंद्र में राशन कार्ड धारकों को गेंहू देने का समय नौ वजे दे दिया और साढ़े ग्यारह वजे तक राशन कार्ड धारकों को गेहूं देना शुरू नहीं किया। साढ़े ग्यारह के बाद लोगो को गेंहू वितरित करना शुरू किया। इस दौरान लोग लाईन लगाकर एक दूसरे से सट कर खड़े रहे। लेकिन उन्हें सोशल डिस्टेंस बनाने के लिए प्रेरित करने वाला कोई नहीं था। इसके ईलावा नौ वजे का समय देकर ढाई घंटे देरी से सबंधित अधिकारी ने पहुंच कर कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरे बढ़ाने में कोई कमी नहीं छोड़ी। महिलाओं सहित सभी लोग परेशान थे लेकिन कहीं कोई उनका गेंहू ना काट ले इस डर से नाम नहीं वता रहे थे लेकिन सभी ने कहा कि वह सुवह नौ वजे के पहले से खड़े है और अव साढ़े ग्यारह वज चुके है। हालांकि गेहू वितरण करने में सहायता करने पहुंचे राजेश कुमार ने कहा कि हमने और डिपो होल्डर ने किसी को भी नौ वजे का समय नहीं दिया था किसी बार्ड के गणमान्य व्यक्ति ने अनाऊंसमेंट करवा दी थी कि नौ वजे गेहूं वितति होगा। हमने तो दस वजे का समय दिया था। इंस्पेकटर के मशीन लेकर पहुंचने पर ही गेहूं वितरण शुरू हो सकता है। उधर फूड स्पलाई इंसपेकटर सुखविंदर सिंह ने मोवाईल पर बार बार संपर्क के बावजूद उन्होंने काल अटैंड नहीं किया। 

जिला काग्रेस के उपाध्यक्ष व ब्राहमण सभा गढ़शंकर के अध्यक्ष ठेकेदार कुलभूशन शौरी: मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब को कोरोना से वचाने के लिए दिन रात जुटे है तो फूड सप्लाई इंसपेकटर सुखविंदर सिंह जानबूझ कर लोगो को जोखिम में धकेल रहे है। लोगो को गेहूं वितरण का सही समय देना चाहिए और सोशल डिस्टेंस बनाने के लिए कर्मचारियों की डयूटी लगानी चाहिए। पहले खुली जगह अनाज मंडी में गेहूं वितरित किया जाता था अव आगनवाड़ी केंद्र में वितरित किया जाने लगा है। यह फुड सप्लाई का इंस्पेकटर डिकटेटर की तरह काम करता है। जिलाधीश को इंस्पेकटर की जिम्मेवारी तय करने के लिए कदम उठाने चाहिए और उस दुारा गेहूं वितरण व राशन कार्ड बनाने व काटने की उच्चस्तरीय जांच करवानी चाहिए।